मध्याह्न भोजन योजना

दिनांक : 01/07/1995 - | सेक्टर: पंचायत एवं ग्रामीण विकास

मध्याह्न भोजन योजना भारत सरकार का एक स्कूली भोजन कार्यक्रम है, जिसे राष्ट्रव्यापी बच्चों के पोषण के लिए तैयार किया गया है। यह कार्यक्रम सरकारी प्राथमिक और उच्च प्राथमिक कक्षाओं में बच्चों के लिए मुफ्त दोपहर के भोजन की व्‍यवस्‍था करता है जिसमें  सरकारी सहायता प्राप्त, स्थानीय निकाय, शिक्षा गारंटी योजना, और वैकल्पिक शिक्षा केंद्र, मदरसा,सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत विद्यालय  शामिल है ।

लाभार्थी:

शिक्षार्थी

लाभ:

निशुल्‍क दोपहर का भोजन

आवेदन कैसे करें

मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम भारत सरकार की मानव संसाधन विकास मंत्रालय व स्कूल द्गिाक्षा एवं साक्षरता विभाग के दिद्गाा निर्देद्गाों के अनुरूप क्रियान्वित किया जाता है। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग इसका नोडल विभाग है। मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम भारत सरकार एवं राज्य शासन के संयुक्त संसाधनों से क्रियान्वित किया जाता है। मध्यप्रदेश में एमडीएम कार्यक्रम का क्रियान्वयन वर्ष 1995 से प्रारंभ किया गया है। (कच्चे खाद्यान्न के रूप में भोजन दिया जाता था) वर्ष 2001 में पके हुए भोजन के रूप में दलिया व खिचड़ी का वितरण किया जाता था। वर्ष 2004 से रूचिकर मेनू अनुसार भोजन प्रदाय किया जाने लगा। वर्ष 2008 से म.प्र. के सभी शासकीय अनुदान प्राप्त माध्यमिक शालाओं में कार्यक्रम लागू किया गया।